Jump to content
Engineering Wall


Sign in to follow this  
  • entries
    0
  • comments
    0
  • views
    1,467

About this blog

what-is-mechanical-engineering-1024x512.

Indiopedia publishes about Mechanical Engineering theory, Industrial Tools , Equipments, Software, Engineering Projects concepts in Hindi

For More Information Please visit :

Website :- http://indiopedia.com/

Facebook :- https://www.facebook.com/indiopedia

Twitter :- https://twitter.com/indiopedia

Youtube Channel :- https://www.youtube.com/c/indiopedia

Google Plus :- https://plus.google.com/+Indiopedia/posts

 

Mechanical Engineering सबसे पुरानी और विस्तृत ब्राँच के साथ साथ बाकि इंजीनियरिंग की माँ है। इसलिए English में कहा जाता है…

“Mechanical Engineering is the mother of all branches“

इंजीनियर सोसाइटी के लिए जटिल समस्याओं का समाधान करता है। मैकेनिकल इंजीनियर यांत्रिक उपकरणों का निर्माण करता है । Maths और science के बुनियादी सिद्दांतो को लगा कर उपयोगी समाधान निकालते है ताकि उन्हें आराम से उपयोग कर सकते है।

मैकेनिकल इंजीनियर क्या करता है?

उन चीज़ो में इंजीनियरिंग लगाना जो move करती हो। बुनियादी तकनीक का उपयोग कर के जैसे axles, levers, screws, springs और hinges इन चीज़ो की मदद से वाहनों, कृषि मशीनरी, घरेलू उपकरणों, रोबोटों और औद्योगिक उपकरण के रूप में बनाने के लिए मैकेनिकल इंजीनियर अभी भी जाना जाता है। मैकेनिकल इंजीनियर control system और उपकरणों के साथ – साथ अलग अलग हिस्सों सहित, इन मशीनों के लिए उप असेंबलियों की डिजाइन करता है ।

अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए हुए लिंक्स पे क्लिक करे।

  1. नाप (Measurements)यह एक प्रकार की विधि है जिसके द्वारा हम किसी जॉब की अथवा वस्तु की लम्बाई, चौडाई, मोटाई नापते है।
  2. कॉमन हैंड टूल्स (Common Hand Tools) – मशीन के द्वारा सभी कार्यो को करना संभव नहीं है। मशीन पर कार्य करते उए भी कुछ ऐसे औजारों की आवशकता होती है जिससे हाथ के द्वारा कार्य किया जाता है। अथवा इनकी सहायता से भी मशीन के अतरिक्त काम किया जा सकता है। इन्हें कॉमन हैण्ड टूल्स (Common Hand Tools) के नाम से जाना जाता है ।
  3. स्क्राइबर (scriber) :- स्क्राइबर(scriber) का प्रयोग भी मेटल के ऊपर रेखाएं खीचने के लिए किया जाता है। स्क्राइबर (scriber) उपयोग की प्रक्रिया को स्क्रिबिंग (scribing) कहा जाता है।
  4. ट्राई स्क्वायर (Try Square) :- चेकिंग टूल्स के द्वारा किसी भी जॉब की फ्लैटनेस (Flatness), स्क्वायरनेस (Squareness) आदि की चेक करते है। ट्राई स्क्वायर (try square) एक प्रकार का चेकिंग टूल है।
  5. सरफेस प्लेट (surface plate) :- इसका प्रयोग मार्किंग में प्रयोग होने वाले इंस्ट्रूमेंट्स को रखने के लिए किया जाता है।

Entries in this blog

No blog entries have been created

Sign in to follow this  
×

View EW Stats